राजभाषा प्रकोष्ठ की वेबसाइट में स्वागत

निदेशक की अपील :

14 सितंबर, 1949 हमारी प्रजातांत्रिक चेतना का एक महत्वपूर्ण दिवस है । इस दिन देश में हिंदी को ‘राजभाषा’ का दर्जा मिला । संघ की राजभाषा का आधार प्रेरणा एवं प्रोत्साहन है । महात्मा गांधी ने कहा था कि हमारे व्यवहार में हिंदी को काम में लाना देश की शीघ्र उन्नति के लिए आवश्यक है । अपनी भाषा के विकास से सभी क्षेत्रों में कार्य करना सरल होगा एवं देश विकास की दिशा में तीव्र गति से आगे बढ़ेगा । आज विश्व स्तर पर हिंदी भाषा ने अपनी एक अलग पहचान बना ली है ।
कंप्यूटर पर हिंदी में कार्य करना काफी सरल हो गया है । विभिन्न हिंदी ई-टूल्स की मदद से हिंदी में आसानी से काम किया जा सकता है । भारत सरकार द्वारा सभी कार्यालयों में हिंदी के प्रयोग को बढ़ाये जाने पर बल दिया जा रहा है । संस्थान में भी इसके प्रगामी प्रयोग को बढ़ाये जाने का लगातार प्रयास किया जा रहा है । जिसके तहत हिंदी टंकण प्रशिक्षण, कार्यशाला, हिंदी से संबन्धित प्रतियोगिताएं एवं राजभाषा सम्मेलन का आयोजन किया जाता है । समय-समय पर इससे संबन्धित दिशा-निर्देशों को सभी विभागों/अनुभागों में अनुपालन हेतु जारी किया जाता है ।
भारत रत्न महामना पं. मदन मोहन मालवीय जी ने हिंदी को राजभाषा बनाने के लिए काफी योगदान दिया । अब हमारा यह दायित्व है कि हम इसके प्रयोग को बढ़ाये एवं इससे संबन्धित नियमों का शत-प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करें । हमें सरल एवं सहज हिंदी का प्रयोग करना चाहिए । कंप्यूटर, इंटरनेट, ई-मेल इत्यादि सूचना प्रौद्योगिकी में हिंदी के बढ़ते प्रयोग से इसमें काम करना आसान हो गया है । हिंदी भाषा के प्रति निष्ठा एवं इसमें कामकाज को बढ़ाये जाने से संस्थान को राजभाषा के क्षेत्र में काफी आगे ले जाया जा सकता है । संस्थान में राजभाषा नीतियों के पूर्ण कार्यान्वयन के लिए हम प्रयासरत हैं

सतत..